रसगुल्ले

मन तो था एक कप चाये पीने का। दूध फटा, चाये फेंकी और जादू से बन गए रसगुल्ले । ३ घंटों की मेहनत। ढेर सारा प्यार। और बीच बीच में तारा की पुकार।

अब लग रहा है की दिवाली आ रही है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s